Friday, May 3, 2019

श्री सूर्य नारायण जी की आरती || Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti

श्री सूर्य नारायण जी की आरती, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti ke Fayde, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti Ke Labh, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti Benefits, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti Pdf, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti in Hindi, Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti Lyrics. 
10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678
नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )
30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678
हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

श्री सूर्य नारायण जी की आरती || Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti

यह तो आप सब पहले से जानते हो की हमारे हिन्दू धर्म में सूर्य देव मुख्य देवताओं में से एक है ! Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti नियमित रूप से पाठ करने से भगवान सूर्य देव का आशीर्वाद बना रहता हैं ! Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti का जाप करने से व्यक्ति को यश की प्राप्ति, नकारात्मकता विचार समाप्त हो जाना, रोग, सभी पाप नष्ट हो जाते हैं ! और जातक मुत्यु के बाद सूर्य लोग में जाता हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti By Acharya Pandit Lalit Trivedi

श्री सूर्य नारायण जी की आरती || Shri Suryanarayan Ji Ki Aarti

जय जय जय रविदेव, जय जय जय रविदेव |
रजनीपति मदहारी, शतदल जीवनदाता |

षटपत मन मुदकारी, हे दिनमणि ! ताता |
जग के हे रविदेव,जय जय जय  रविदेव |

नभमण्डल के वासी,ज्योति प्रकाशक देवा |
निज जनहित  सुखरासी, तेरी हमसब सेवा |

करते हैं रविदेव, जय जय जय रविदेव |
कनक  बदन मन मोहित, रुचिर प्रभा प्यारी |

निज मंडल से मंडित, अजर अमर  छविधारी
हे सुरवर रविदेव जय जय जय रविदेव |

यदि आपके जीवन में भी सूर्य ग्रह के कारण किसी भी तरह की परेशानी आ रही हो तो अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )
Related Post : 



Disqus Comments